छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

आकस्मिक निरीक्षण के दौरान कृषि केंद्र में पाया गया कालातीत कीटनाशक, दवाइयों की जब्ती कर की गई कार्रवाई !

Dileep shukla salhewara.

▶️एसडीएम निष्ठा पांडे तिवारी के नेतृत्व में बनाई गई तीन टीम जांच के लिए

साल्हेवारा ! DNnews-राजनांदगांव कलेक्टर के निर्देशन में खाद एवं बीज की गुणवत्ता को लेकर प्राप्त शिकायतों को ध्यान में रखते हुए छुईखदान विकासखंड मे संचालित कृषि केंद्रों का आकस्मिक जांच राजस्व एवं कृषि विभाग द्वारा संयुक्त रुप से तीन अलग अलग टीम बनाकर की गई.

एसडीएम श्रीमती निष्ठा पांडे तिवारी के नेतृत्व में पहली टीम तहसीलदार गंडई त्रिभुवन वर्मा, वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी केएल कोठारी, आदि के साथ गंडई क्षेत्र के राम कृषि केंद्र, यादव कृषि केंद्र,अशोक अग्रवाल, कृषि विजय सदन, लक्ष्मी कृषि केंद्र लिमो का निरीक्षण किया गया।

दूसरी टीम तहसीलदार छुईखदान प्रफुल्ल कुमार गुप्ता, राजस्व निरीक्षक योगेश धनगुन, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी आर पी जोशी , एम एल साहू द्वारा ग्राम पद्मावतीपुर मे संचालित महामाया कृषि केंद्र, छुईखदान के जवाहर कृषि केंद्र, हे राम कृषि केंद्र का निरीक्षण किया गया.

तीसरी टीम सुश्री नेहा विश्वकर्मा, राजस्व निरीक्षक, दिलीप देहरी, ग्रामीण कृषि विस्तारअधिकारी आरती द्वारा छुईखदान में संचालित संजय कृषि केंद्र, मां नर्मदा कृषि केंद्र, मनोज कृषि केंद्र, का औचक निरीक्षण किया गया।

निरीक्षण केंद्रों एवं उनके गोदामों में रखे कीटनाशक दवाइयां, खाद आदि का स्टॉक पंजी, से मिलान कर भौतिक सत्यापन किया गया.उर्वरकों की घुलनशीलता का परीक्षण मौके पर किया गया। आकस्मिक निरीक्षण में कृषि केंद्र में पाया गया कालातीत कीटनाशक दवाइयों की जब्ती की कार्रवाई भी की गई.कृषि केंद्रों में मूल्य सूची का प्रदर्शन नहीं होने, बिल बुक, रसीद बुक,स्टॉक पंजी आदि अद्यतन नहीं कालातीत दवाइयां पाए जाने के कारण कृषि केंद्र संचालकों को नोटिस जारी किया जा रहा है.

बतादें कि इन दिनो क्षेत्र मे खेती किसानी का दिन चल रहा है ऐसे मे किसानों को खाद बीज के लिए कृषि केन्द्रों का दरवाजा खटखटाना पड़ रहा है. इधर कृषि केन्द्र के संचालक उंचे दाम पर दवाइयां आदि बेच रहे है. वहीं अधिकांश कृषि केन्द्र संचालक बिना पीसी के भी दवाई बेच रहे है. जिसकी शिकायत विभाग को लगातार मिल रही थी. आने वाले समय मे अगर इन कृषि केंद्रों मे नियम का पालन नही कराया गया तो किसानों को और भी परेशानी होगी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button