छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

उतई में पाइप लाइन बिछाने का कार्य पीएचई विभाग पीडब्ल्यूडी विभाग एवं रेलवे के आपसी सामंजस्य ना हो पाने की वजह से बिछाया नहीं जा सका !

दुर्ग ! DNnews-उतई नगर पंचायत उतई क्षेत्र में शिवनाथ जल उदवहन योजना एवं गौरव पथ का निर्माण उतई की सड़क को फिर से बदहाल कर सकती है, पी डब्ल्यू डी विभाग, पी एच इ विभाग एवम नगर पंचायत उतई के मध्य आपसी सामंजस्य ना होने का दुखद परिणाम भोगने के लिए उतई नगर वासीयो को तैयार रहना पड़ेगा, कोई भी योजना बनाने एवं उसको पूर्ण करने के लिए भविष्य को देखना जरूरी होता है जिसका की अभाव है।

शिवनाथ जल उज्जवल योजना के अंतर्गत शिवनाथ नदी से ऊतई तक पाइप लाइन से पानी लाकर उतई में ही जल शुद्धीकरण कर लोगों के घर-घर तक पेयजल पहुंचाने के लिए तत्कालीन महिला बाल विकास एवं समाज कल्याण मंत्री श्रीमती रामशिला साहू के भागीरथी प्रयास से 18 करोड रुपए की स्वीकृति कराई गई थी जो विगत 4 वर्षों से अपने पूर्ण होने का बाट जोह रही है शिवनाथ नदी से उतई तक पाइप लाइन बिछाई जा चुकी है ओर उतई की गलियों में भी पाइप लाइन का विस्तार किया जा चुका है किंतु पुरई एवम खमरिया के बीच दिल्ली रेलवे लाइन का एक अंडरब्रिज है जिसके नीचे 100 मीटर के करीब पाइप लाइन बिछाने का कार्य पीएचई विभाग पीडब्ल्यूडी विभाग एवं रेलवे के आपसी सामंजस्य ना हो पाने की वजह से बिछाया नहीं जा सका है मिली जानकारी के अनुसार पी डब्ल्यू डी एव पी एच ई विभाग द्वारा रेलवे विभाग से पत्राचार किया गया है किन्तु अनुमति नहीं मिल पाने के कारण पाइपलाइन बिछाया नहीं जा सका है जल शुद्धिकरण हेतु संयंत्र एव पानी टंकी का निर्माण लगभग पूर्ण हो चुका है किंतु अंडरब्रिज के नीचे 100 मीटर पाइप लाइन ना बिछ पाने की वजह से उक्त पाइपलाइन का टेस्टिंग नहीं हो पा रहा है। इधर उतई में 3 करोड़ 26 लाख रु की लागत का गौरव पथ का निर्माण प्रारम्भ हो चुका है। सबसे बड़ी समस्या इस बात को लेकर भविष्य में होने वाली है कि उतई की अधिकांश सड़क जिनमे गौरव पथ भी शामिल है के ठीक बीचो बीच पाइप लाइन बिछाई गई है। ना तो पाइप लाइन का टेस्टिंग किया गया है ना ही इस नए पाइप लाइन से लोगो को नल कनेक्शन दिया गया है, पाइप लाइन की टेस्टिंग एव लोगो को नल कनेक्शन देने के पहले यदि गौरव पथ का निर्माण पूरा हो जाता है तो भविष्य में काफी समस्या आने वाली है। पाइप लाइन की टेस्टिंग होने पर अनेक स्थानों पर लिकेज होने की संभावना से इंकार नही किया जा सकता है ऐसी स्थिति में नवनिर्मित गौरव पथ को फिर से खोदना पड़ेगा एवम सड़क में टूट फुट भी होगी क्योंकि पाइपलाइन गौरव पथ के ठीक बीचोबीच बिछाई गई है सड़क के दोनों ओर नल कनेक्शन देने के लिए भी नवनिर्मित गौरव पथ को खोदना पड़ेगा ऐसी स्थिति में करोड़ों रुपए की लागत से बना गौरव पथ की दशा का आकलन किया जा सकता है गौरव पथ पुनः टूट-फूट कर पुनः अपनी बदहाली के लिए खून के आँशु रोयेगी।

पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष गौरी चन्द्राकर के कार्यकाल में गौरव पथ वाली सड़क को पीडब्ल्यूडी से नगर पंचायत उतई ने मांग कर अपने अधीनस्थ कर लिया है ऐसी स्थिति में गौरव पथ में जो भी टूट-फूट होगी उसको बनवाने की नैतिक जिम्मेदारी नगर पंचायत की होगी क्योंकि पीडब्ल्यूडी का हक जिस सड़क में नही होगा वो उसके संधारण से मुक्त होगी। ऐसी स्थित में ज्यादा टूट फुट होंने पर नगर पंचायत उतई की आर्थिक स्थिति ऐसी नही है कि वह इस सड़क का संधारण कर सके जब इस सड़क को नगर पंचायत उतई पी डब्ल्यू ड़ी से अपने अधीन कर रही थी तो उस समय पूर्व जनपद सदस्य सतीश पारख एवं एल्डर मेंन अशोक अग्रवाल, लक्ष्मीनारायण, विमला साहू, सहित कुछ पार्षदों ने विरोध किया था कि सड़क को पीडब्ल्यूडी से ना ली जाए किंतु नगर पंचायत उतई ने उक्त सड़क को पीडब्ल्यूडी से ले लिया

वर्तमान परिस्थिति में सबसे आवश्यक यह है कि पहले पाइपलाइन के बिछाने का कार्य पूर्ण हो और लोगों को नल कनेक्शन दे दिया जाए और उसके बाद पाइप लाइन का टेस्टिंग किया जाए और यदि ऐसी स्थिति में टेस्टिंग के में यदि कोई लिकेज होती है तो उसका संधारण कर लिया जाए एव लोगो को नल कनेक्शन दे दिया जाय उसके बाद गौरव पथ का निर्माण कार्य पूरा किया जाए ताकि कम से कम नुकसान हो सके। नगर पंचायत उतई, पीडब्ल्यूडी बिभाग एव पीएचई विभाग के अधिकारी आपास में सामंजस्य बना के यदि संयुक्त प्रयास करते है तो भविष्य में होने वाली क्षति एव परेशानी से बचा जा सकता है अन्यथा गौरव पथ की कहानी वही ढाक के तीन पात बनी रहेगी।

” हमारे द्वारा नगर में मुनादी करवा दी गई है जिन्हें भी नल कनेक्शन लेना हो वो नगर पंचायत में आवेदन जमा कर शीघ कनेक्शन ले ले, गौरव पथ के निर्माण के बाद उक्त सड़क को पुनः अपने अधीन लेने के लिए पी डब्ल्यू ड़ी विभाग से अनुरोध किया जाएगा इसके लिए विभागीय कार्यवाही की जाएगी।”
डिकेन्द्र हिरवानी अध्यक्ष नगर पंचायत उतई

” पाइप लाइन में डी आई पाइप लगाया गया है पाइप के ज्वाइंट में रबर गास्केट लगाया गया है जिसकी वजह से लीकेज की संभावना 10 % ही है, रेलवे अंडरब्रिज के नीचे पाइप लाइन के लिए रेलवे विभाग से पत्राचार किया गया है उनसे डिमांड नोट मिलते ही राशि जमा कर टेंडर कर कार्य पूरा कर लिया जाएगा, ओर पाइप लाइन बिछा दी जाएगी, बाकी हमारी तरफ से पूरी तैयारी हो चुकी है अंडरब्रिज के अंदर 2 फिट के पाइप के अंदर 8 इंच का पाइप लगाया जाएगा जिससे उक्त पाइप पर कम प्रेशर पड़ेगा।”
विशाल गेडाम इंजीनियर पीएचई विभाग दुर्ग

” लोक निर्माण मंत्री का निर्वाचन छेत्र,तीन बार भूमिपूजन के बाद भी ढाई वर्ष में आधा किलोमीटर गौरव पथ नही बन पाया…शायद अगले चुनाव पूर्व तक बन जाये ताकी जनता को फिर गुमराह किया जा सके।
इस सड़क को लोक निर्माण से न लेने व उनके अधीनस्थ ही कार्य करवाने आवेदन किया था किंतु पूर्व नगर सरकार की मनमानी के चलते ऐसा नही हुवा..अब नगर पंचायत के अधीनस्थ बन भी जाय तो सड़क के बीच बिछी पेयजल पाइप लाईन के ट्रायल के समय पुनः सड़क खोदने की नोबत आएगी तब फिर रिपेरिंग हेतु नगर सरकार को प्रदेश सरकार का मुह ताकना पड़ेगा।”
सतीश पारख जिलाध्यक्ष जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button