छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

ओबीसी महासभा द्वारा जिला मुख्यालय में सामाजिक न्याय दिवस मनाया गया !

DNnews ब्यूरो !

राजनांदगांव ! DNnews-ओबीसी महासभा जिला राजनांदगांव द्वारा बीपी मंडल दिवस के अवसर पर ओबीसी सामाजिक न्याय संगोष्ठी का आयोजन सफलतापूर्वक संपन्न हुआ. राष्ट्रीय ओबीसी महासभा रजिस्टर्ड के निर्देशानुसार प्रदेश में 7 अगस्त 1990 को घोषित ओबीसी आरक्षण के जन्मदाता बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल के अनुशंसा पर भारत देश के 3743 जातियों को सामाजिक एवं शैक्षणिक रूप से पिछड़ा माना गए तथा संविधान के अनुच्छेद 340 डॉक्टर वास अंबेडकर द्वारा प्रदान किया गया अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग के गठन के अनुपालन में मंडल आयोग ने ओबीसी के सामाजिक शैक्षणिक आर्थिक विकास के लिए 40 अनुशंसा दिए जाने केंद्र सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी जिसे लागू करते हुए राष्ट्रीय मोर्चा जनता दल की सरकार के प्रधानमंत्री वी पी सिंह द्वारा 27% ओबीसी आरक्षण लागू की जाने की घोषणा किया गया जिसके तहत सदियों से सामाजिक शैक्षणिक आर्थिक विषमता के शिकार अन्य पिछड़ा वर्ग समाज को उनका हक अधिकार प्राप्त हुआ.

उक्त बातें अपने अध्यक्षीय भाषण में अधिवक्ता महेंद्र वर्मा ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कही कार्यक्रम में विशेष रुप से रायपुर से उपस्थित भू वैज्ञानिक प्रथम श्रेणी अधिकारी पोस्ट से रिटायर्ड डॉक्टर आई डी आशिया, ओबीसी चारण समाज के तहत आते हैं उन्होंने अपने मुख्य अतिथि के आसंदी से संबोधन किया कि छत्तीसगढ़ राज्य में 67 जातियां ओबीसी वर्ग के अंतर्गत आते हैं जिन्हें कभी हक और अधिकार नहीं मिला था उनकी सामाजिक आर्थिक स्थिति देनी थी किंतु मंडल आयोग के लागू होने से लाखों लोगों को शिक्षा एवं नौकरी में आगे आने का अवसर मिला, किंतु ओबीसी समाज जातियों में बैठे होने के कारण संगठित नहीं होने से उन्हें पूरा अधिकार आज तक नहीं मिल पाया है इसलिए जातियों में बटे ओबीसी समाज को अपनी मूल पहचान संवैधानिक पहचान ओवैसी के रूप में संगठित होना पड़ेगा मांगने से तो भीख नहीं मिलता इसके लिए हमें संघर्ष कर अधिकार पूछना पड़ेगा यदि छत्तीसगढ़ के 52% ओबीसी संगठित हो जाए भारत देश के संगठित हो जाए हमें मांगने वाला नहीं देने वाला बन जाएंगे और राज्य और केंद्र की सरकार भी ओबीसी समाज की होगी.

मंडल दिवस के कार्यक्रम में राजनंदगांव जिले के 10 समाजों के प्रतिनिधि लोग उपस्थित हुए थे जिसमें से लोधी ,साहू ,यादव , केवट ,धनगर, कुम्हार ,गडरिया कुर्मी , देवांगन, कलार समाज प्रमुखहै.

ओबीसी सामाजिक न्याय दिवस संगोष्ठी कार्यक्रम को वैध शेखू वर्मा एडवोकेट ने पूरे जिले में ओबीसी महासभा संगठन के विस्तार करने विशेष फोकस देने पर बल दिया, देवांगन समाज के मीडिया से जुड़े संजू महाजन ने हर संभव ओबीसी समाज के विकास के लिए कार्य करने पर बल दिया कथा मीडिया जगत के द्वारा कार्यक्रम का प्रचार प्रसार करने अपनी सहमति प्रदान किया।
कुंभकार समाज के जिलाध्यक्ष हेमलाल कौशिक जी ने अपने ओजस्वी उद्बोधन में जातियों में हुए बटे ओबीसी समाज को संगठित करने तथा उन्हें संवैधानिक अधिकार के माध्यम से जोड़ने पर बल दिया ।

इसी प्रकार देवांगन समाज की ओर से श्री महेश देवांगन आर्थिक क्षेत्र में ओबीसी समाज के मजबूती पर अपनी बात का है मरार समाज के युवा तुर्क ओम प्रकाश पटेल ने संगठित समाज बस अभी आदर करते हैं किंतु बटे होने से ओबीसी का सम्मान नहीं हो रहा है इसलिए संगठन की मजबूती पर बल दिया । इसी प्रकार केवट समाज के रिटायर्ड पंचायत अधिकारी विजय निषाद ने अपने पुराने अनुभवों को रखते हुए बौद्धिक वर्गों को समाज में आगे आने तथा आने वाले पीढ़ी पके लिए काम करने का आह्वान किया , पाल समाज के जिलाध्यक्ष खिलेश्वर पालने अपने ओजस्वी भाषण में ओबीसी समाज के अतीत को रखते हुए जिन लोगों ने ओबीसी समाज को सदियों से शोषण अत्याचार जुल्म ज्यादती करने वाले लोगों से सजग रहकर ओबीसी समाज को संघर्ष करने पर बल दिया.

सोहनलाल बंछोड़ धन सिंह साहू शेख वर्मा महेश देवांगन संतराम वर्मा भोलाराम साहू शिवानंद यादव विजय लाल निषाद प्रज्ञा साहू मान सिंह निषाद ओम प्रकाश पटेल ठाकुर राम साहू आदि साथियों ने कार्यक्रम में शामिल होकर अपने जागरूकता का परिचय दिया.कार्यक्रम का सफल संचालन जिला पंचायत सदस्य उद्योग व्यापार सहकारिता के सभापति विप्लव साहू ने किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button