टेक & ऑटोदेश-विदेश

कभी भी गिर सकता है बिजली का पोल, विभाग का खुल सकता है पोल, अभी भी कुंभकर्णीय नींद मे विभाग !

गुलशन तिवारी उदयपुर !

उदयपुर ! DNnews-जब से छत्तीसगढ़ में मानसून प्रवेश हुआ है किसानी कार्य में तेजी आ गई है. किसान अपने खेतों में किसानी कार्य में जुट गए हैं खेती किसानी के लिए बारिश के पानी के साथ साथ ट्यूबवेल से पानी लेने की भी आवश्यकता पड़ती है लेकिन इसके लिए विद्युत प्रवाह सही तरीके से होना अनिवार्य है.

बिजली विभाग की लापरवाही का नुकसान किसानों को उठाना पड़ रहा है खैरी सीताडबरी मार्ग में किसानों के खेत के ऊपर से विद्युत प्रवाह हो रही है जिसमें से 3 पोल बिल्कुल खेतों में कभी भी गिर सकती है जिसकी शिकायत 20 दिनों पहले उदयपुर सब स्टेशन में किया जा चुका है लाइनमैन से इनकी शिकायत पिछले 3 माह से की जा रही है परंतु अभी तक किसी प्रकार का कोई कार्य नहीं किया गया है उस पोल को अभी तक सीधा नहीं किया गया है आपको बता दें कि उदयपुर सब स्टेशन में सिर्फ बिजली वितरण का ही कार्य होता है शिकायत के लिए बुन्देली कार्यालय में जाकर शिकायत दर्ज कराना पड़ता है परंतु उदयपुर लाइनमैन के द्वारा कोरे रजिस्टर पर शिकायत लिखवा लिया गया है व आज तक सुधार कार्य नहीं किया गया है अधिक बारिश होने से कभी भी बिजली का पोल खेतो में गिर सकता है व बड़ी दुर्घटना हो सकती है इससे जानमाल की भी हानि हो सकती है शिकायत दर्ज कराने के नाम पर सिर्फ बिजली विभाग के द्वारा खानापूर्ति किया जा रहा है इस संबंध में पिछले 3 महीने से शिकायत किया जा रहा है परंतु बिजली विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों के द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है किसानों को अपने खेतों में जुताई करने के लिए लाइन बंद करवाना पड़ता है बिजली का केबल लगभग 10 फीट तक आ चुका है कभी भी ट्रैक्टर से टकराने पर करंट लग सकती है बड़ी दुर्घटना हो सकती है परंतु विद्युत विभाग अभी भी आंख बंद किए हुए चैन की नींद सो रहे हैं किसानों की समस्या का समाधान नही किया जा रहा है इस विद्युत केबल में लगभग 10 किसान प्रभावित हो रहे है 1 सप्ताह के अंदर या केवल या पोल सीधा नहीं किये जाने पर किसान बिजली ऑफिस का घेराव करने की चेतावनी दे रहे हैं।

▶️पर्याप्त कर्मचारियों के अभाव में नहीं होता समस्याओं का समाधान

बुन्देली ऑफिस में सिर्फ एक कर्मचारी के द्वारा ही कार्य संचालित किया जा रहा है बुंदेली सब स्टेशन के अंतर्गत लगभग 40 गांव के हितग्राही अपनी समस्या लेकर पहुंचते हैं परंतु एक ही कर्मचारी होने की वजह से समस्याओं का समाधान नहीं हो पाता है सिर्फ एक कनिष्ठ अभियंता तीन जगहों के प्रभार में है जिसकी वजह से भी अपनी सेवा नहीं दे पा रहे हैं व किसानों की समस्या समस्या बन कर रह जाती है समाधान नहीं हो पाती है बिजली बिल का भुगतान करने का बिजली बिल सुधरवाने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता है किसानों को पूरे दिन अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए इंतजार करना पड़ता है। संतुष्टि पूर्वक हितग्राहियों को जवाब नहीं मिल पाता है जिससे भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

“कोई भी किसान को नही घुमाया जा रहा है।अभी मेंटनेंस कार्य चल रहा है। छुईखदान ऑफिस में संपर्क करने पर समाधान कर देंगे।”
एम विश्वकर्मा
सहायक अभियंता छुईखदान

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button