छत्तीसगढ़टेक & ऑटोदेश-विदेश

करोड़ों की लागत से बन रहे बोदागढ़ के पुलिया चढ़ी भ्रष्टाचार की भेंठ !

▶️पीएमजीएसवाई के तहत बन रहा है पुलिया

▶️ गुप्ता कंस्ट्रक्शन ने लिया है ठेका

▶️विभाग झांकने तक नहीं पहुंच रहे है

बाजार अतरिया ! DNnews- बाजार अतरिया के समीप बोदागढ़ से हरदी के बीच मे पुलिया का निर्माण गुप्ता कंस्ट्रक्शन कंपनी रायगढ़ के द्वारा किया जा रहा है. जिसकी लागत 2 करोड़ 99 लाख 67 हजार की लागत से यह निर्माण कार्य किया जा रहा है. जिसकी कार्य प्रारंभ करने की तिथि 5 जुलाई 2018 को शुरू किया गया था. जिसको 16 माह में ही निर्माण कार्य को पूरा करना था. मालूम हो कि यह निर्माण कार्य प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत कार्य किया जा रहा है. वही लगभग 6200 मीटर पर पुल निर्माण किया जा रहा है जो पूरी तरह भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई है. मानो ऐसा प्रतीत हो रहा है कि ठेकेदार एवं संबंधित आला अधिकारियों के साठ गांठ के चलते यहां निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार को अंजाम दे रहा है. साथ ही जिले के ग्रामीण अंचल में होने व गांव के अंदरूनी हिस्से में यह निर्माण कार्य चलने के वजह से यहां कोई भी संबंधित आला अधिकारी एवं कंपनी के ठेकेदार व आसपास के जनप्रतिनिधि झांकने तक नहीं पहुंच रहे हैं. आसपास के कई लोगों को जानकारी भी नहीं है कि यहां पर निर्माण कार्य चल रहा है. इतनी अंदरुनी हिस्से में यह निर्माण कार्य हो रहा है ऐसे में मनमाने तरीके से ठेकेदार एक अपना सूबेदार के भरोसे ही पूरा कार्य कराया जा रहा है ऐसे में संबंधित अधिकारी कर्मचारियों के द्वारा मॉनिटरिंग नहीं करना व ठेकेदार के ऊपर किसी भी प्रकार कोई कार्यवाही का नहीं करना समझ से परे है.

इधर 16 माह में ही निर्माण कार्य को पूरा किया जाना था लेकिन 3 वर्ष बीत जाने को है अभी भी निर्माण कार्य आधा अधूरा ही हुआ है. ऐसे में ग्रामीणों को आवागमन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. खेती किसानी के दिनों में बैलगाड़ी, ट्रैक्टर एवं दोपहिया वाहन पुलिया निर्माण कार्यस्थल से गुजर पाना भी मुश्किल है ऐसे में ठेकेदार के ऊपर अधिकारियों की मेहरबानी के चलते यह लंबे समय से कार्य प्रगति पर चल रहा है वहीं राजनीतिक संरक्षण के चलते ठेकेदार को जरा भी किसी का खौफ नहीं बेखौफ होकर घटिया मटेरियल का भी उपयोग किया जा रहा है स्टीमेंट के अनुसार निर्माण कार्य किया जाना है लेकिन स्टीमेट की धज्जियां उड़ा कर अपने हिसाब से मनमाने तरीके से कार्य को अंजाम दे रहे हैं।

▶️16 माह में किया जाना था निर्माण कार्य पूरा, बीत गया तीन वर्ष

बतादें कि मे. गुप्ता कंस्ट्रक्शन कंपनी रायगढ़ के द्वारा बाजार अतरिया से हरदी मार्ग का निर्माण कार्य किया जा रहा है जो की करोड़ों रुपए की लागत से निर्माण कार्य हो रहा है जिसमें पुलिया निर्माण का कार्य भी किया जाना है जो पूरी तरह भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई है लगी साइन बोर्ड के अनुसार 12 माह में ही निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाना था लेकिन लगभग 3 वर्ष बीत जाने को है अभी तक निर्माण कार्य पूरा नहीं किया गया है निर्माण कार्य 5 जुलाई 2018 से प्रारंभ किया गया है जिसको 16 माह में पूर्ण किया जाना था लेकिन ठेकेदार द्वारा कछुआ गति से निर्माण कार्य एवं लापरवाही के निर्माण कार्य किया जा रहा है ऐसे में संबंधित विभाग के आला अधिकारियों की लचर व्यवस्था एवं उदासीनता के चलते अभी तक लंबे समय बीत जाने के बावजूद भी निर्माण कार्य आधा – अधूरी हो पाई है।

▶️ पुल के दोनो तरफ बनना है एप्रोच रोड

इधर बारिश भी लग गई है और एप्रोच रोड आदि का कोई ठिकाना नही जिससे लोगों को आवागमन मे भारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.जानकारी के मुताबिक पुलिया के दोनो छोर मे एप्रोच रोड बनना है. जिसका अभी तक अत पता नही है. वही एप्रोच रोड नही होने के कारण लोगों को आवागमन मे परेशानी हो रही है. इसके अलावा नदी के मिट्टी के कटाव को रोकने के लिए सीमेंट का दिवार भी बनाना है. जिसमे भी जमकर भ्रष्टाचार देखने को मिल रहा है. घटिया रेती का उपयोग एवं सही रेसिपी का कोई ठिकाना भी नही है जो जांच का विषय है.

▶️किसानों को आवागमन मे हो रही परेशानी

लगातार 3 वर्ष बीत जाने के बावजूद भी निर्माण कार्य आधा अधूरा ही पड़ा है. ठेकेदार के द्वारा निर्माण कार्य की एजेंसी लेने के समय 12 माह में ही निर्माण कार्य पूरा करने का स्टीमेट तैयार हुआ था. बावजूद 12 महीने गुजर जाने के बाद लगभग और 19 माह बीत गया है उसके बाद भी निर्माण कार्य अभी भी आधा अधूरा है. गौरतलब है कि ग्राम बोदागढ़ एवं हरदी के ग्रामीणों को आवागमन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. आय खेती किसानी के दिन में ग्रामीण खेत खार के लिए इसी रास्ते का उपयोग करते हैं. जो पुल निर्माण के चलते पूरी तरह खराब हो गई है जो चलने लायक भी नहीं है ऐसे में किसानो को काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है वहीं ट्रैक्टर बैलगाड़ी का गुजर पाना बेहद मुश्किल हो गया है।

▶️गिट्टी, रेती व सीमेंट के रेशिपी का ठिकाना नहीं

लगातार निर्माण कार्य में लापरवाही व भ्रष्टाचार के चलते निर्माण कार्य को ठेकेदार द्वारा अंजाम दिया जा रहा है. हम पाठकों को बता दें कि चल रहे निर्माण कार्य में संबंधित आला अधिकारी झांकने तक नहीं पहुंच रहे हैं वहीं ठेकेदार अन्य जिले में निवासरत होने की वजह से कार्यस्थल पर भी नहीं पहुंच पा रहे हैं ऐसे में मनमाने तरीके से गिट्टी, रेती व सीमेंट के रेशों का भी ठिकाना नहीं है मनमाने तरीके से मटेरियल तैयार किया जा रहा है ऐसे में निर्माण कार्य मे मजबूती भी नहीं दिख रही है जो अधिक बारिश होने के बाद ही पता चल पाएगा.

▶️साइन बोर्ड तो है, लेकिन लगाया नहीं गया है।

कार्य स्थल पर निर्माण कार्य की राशि कार्य प्रारंभ से लेकर समापन की तिथि सहित निर्माण कार्य में पारदर्शिता लाने के लिए साइन बोर्ड का लगाना अति आवश्यक होता है लेकिन वहां पर साइन बोर्ड तो मौजूद हैं लेकिन वहां साइन बोर्ड एक किनारे पर पड़ा हुआ है लगाया नहीं गया है ऐसे में ठेकेदार कितने जिम्मेदार हैं वह देखने को मिल रहा है। यानि ठेकेदार काम मे पार्दर्शिता लाना नही चाहते.

▶️संबंधित अधिकारी आखिर क्यों है ठेकेदार के ऊपर मेहरबान

करोड़ों रुपए की लागत से हो रहे निर्माण कार्य को संबंधित आला अधिकारी के द्वारा समय-समय पर मॉनिटरिंग स्थल निरीक्षण एवं कार्यशैली को देखा जाना है लेकिन ऐसा कहां होगा अधिकारी तो स्वयं ही ठेकेदार के ऊपर इतना मेहरबान है कि स्थल को देखने तक नहीं पहुंच रहे हैं किस तरह से निर्माण कार्य हो रहे हैं झांकने तक नहीं पहुंच रहे हैं आखिर पहुंचेंगे भी क्यों क्योंकि ठेकेदार के द्वारा मलाई खाने को जो मिल रहा है इसलिए ठेकेदार के ऊपर अधिकारी कर्मचारी मेहरबान है अब देखना यह होगा कि क्या खबर प्रकाशित होने के बाद कुछ कार्रवाई की जाती है कि ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है।

“ठेकेदार को कार्य मे विलंब के चलते 10 परसेंट पेनाल्टी लगाया गया है. उचित जांच कर कार्यवाही की जाएगी”
डोनाडे एसडीओ पीएमजीएसवाई

पार्ट – 1

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button