छत्तीसगढ़टेक & ऑटोशिक्षा

कलेक्टर के निर्देश के बाद भी हाईस्कूल छुरिया के जांच पर हील हवाला,कलेक्टर के आदेश की हो रही अवहेलना !

▶️एसडीएम ने शाला मे समान चोरी पर नहीं बिठाया अब तक जांच कमेटी

छुरिया ! DNnews – हाईस्कूल भवन छुरिया के लाखो रूपया के समानो के चोरी के शिकायत पर जिला कलेक्टर राजनांदगांव ने छुरिया प्रवास के दौरान एसडीएम डोगरगांव को शाला मे समान अफरातफरी के मामले पर नगर के गणमान्य लोगो व शाला समिति के समक्ष जांच के लिए निर्देशित किया था. खबर है एसडीएम डोगरगांव ने कलेक्टर राजनांदगांव के निर्देश पर अब तक अमल नही किया है. नगर के लोगों का आरोप है शाला भवन का सामग्री लगातार चोरी होते जा रहा है नगर के लोगों मे स्थानीय प्रशासन व एसडीएम डोगरगांव जो कलेक्टर के निर्देश के बाद भी जांच नही करना पर आश्चर्य व्यक्त किया. वही नगर के जवाबदार जनप्रतिनिधी का इस मामले पर मौन रहना अफशरशाही को संरक्षण देना बताया है.

प्रदेश के मुख्यमंत्री मिडिया का करते है सम्मान एसडीएम करते है अपमान

छुरिया नगर मे जिला कलेक्टर द्वारा शाला निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने नगर के प्रबुद्धजनों व स्थानीय पत्रकारों से कहा नगर व क्षेत्र के किसी भी मामले मे सहयोग के लिए एसडीएम डोगरगांव से कहा करे इस पर मौके मे ही एक स्थानीय पत्रकार ने कलेक्टर को जानकारी दिया की किसी भी मामले पर एसडीएम डोगरगांव को स्थानीय जनप्रतिनिधी फोन या अन्य माध्यम से जानकारी देते है तो उनके द्वारा कोई भी तवज्जो नहीं दिया जाता आरोप है इस पर एसडीएम डोगरगांव ने कलेक्टर के सामने ही मिडीया कर्मी को झूठा शिकायत करने वाला कहा एक तरफ प्रदेश के मुख्यमंत्री मिडिया को सम्मान देना चाहते है वही दूसरे तरफ ऐसे कुछ है अधिकारी जो इस तरह से सार्वजनिक जगहो पर कभी मिडिया को कभी शराब पीने के मामले पर डाक्टरों का अपमान करते है खबर है. एसडीएम डोगरगांव द्वारा मिडिया से दुर्व्यवहार के मामला जिला पत्रकार संघ तक पहुंच चुका है. मामले पर रणनीति तय कर शासन प्रशासन से अधिकारी के इस रवैये के बारे मे जिला कलेक्टर व प्रभारी मंत्री से चर्चा करने का जानकारी है.

▶️ पत्रकारो को फंसाने की साजिश रचने से बाज आये अधिकारी-सिन्हा

देखा जा रहा है पिछले कुछ समय से अधिकांश जगहों पर अधिकारियों व छुटभैया नेताओ के द्वारा लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के लोगो को फंसाने व डराने धमकाने का कार्य जोरो से किया जा रहा पत्रकार हमेशा वही दिखाता है जो दिखता है. लेकिन अधिकारी किसी समाचार में संज्ञान लेना छोड़ उल्टा पत्रकारो को ही फंसाने की बात करते है. आये दिन जिले के ब्लाकों से समाचार मिल रहा है कि पत्रकार प्रताडित हो रहे है इस बात को लेकर शीघ्र ही छत्तीसगढ़ जर्नलिस्ट यूनियन कलेक्टर से मिलकर बात करेगें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button