छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

तम्बाकू खाना अनेक बीमारियों को जन्म देता है – डा. रत्ना नशीने

DNnews ब्यूरो !

नारायणपुर ! DNnews- तंबाकू के उपयोग से स्वास्थ्य मे होने वाले हानीकारक प्रभाव की जानकारी दी। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के अंतर्गत कृषि महाविद्यालय एवं अनुसधान केन्द्र, नारायणपुर (छ.ग.) और राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई के द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर अधिष्ठाता एवं राष्ट्रीय सेवा योजना अधिकारी डा. रत्ना नशीने ने यह दिवस क्यों मनाया जाता है तथा इसके उदेदश्य पर प्रकाश डाला तंबाकू के उपयोग से शरीर मे होने वाले कुप्रभाव की जानकारी के लिए हर साल 31 मई को यह दिवस मनाया जाता है इस दिवस पर लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा करने और तंबाकू का उपयोग को ना करने में मदद करने के लिए एवं जागरूकता बढ़ाने के लिए और लोगों को स्वास्थ्य पर तंबाकू के बुरे प्रभावों के बारे में शिक्षित करने के लिए यह दिवस मनाया जाता है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के द्वारा तंबाकू के उपयोग से स्वास्थ्य पर हानीकारक प्रभाव के बारे मे लोगों को सजग करने के लिये तथा धूम्रपान और अन्य तंबाकू उत्पादों के उपयोग को कम करने में मदद करने वाली नीतियों को लागू करने के लिए सरकारों को प्रोत्साहित करने के लिए हर साल विश्व तंबाकू निषेध दिवस को बढ़ावा देता है।

डा. रत्ना नशीने ने आगे बताया की डब्ल्यूएचओ के अनुसार तंबाकू के सेवन से दुनिया भर में हर साल 8 मिलियन से अधिक लोगों की मौत होती है. किसी भी तरह के तंबाकू का सेवन करने से फेफड़ों की क्षमता कम हो जाती है और सांस की बीमारियों की गंभीरता बढ़ जाती है. इस साल (2021 विश्व तंबाकू निषेध दिवस की थीम “तंबाकू छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध ” है। श्री राकेश कौशले ने कहा की जीवन में ऐसी चीजों का उपयोग करें खाने से स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पड़ता है उन्हें खाना चाहिए लेकिन कुछ ऐसी भी चीजे है जिन्हें खाने या सेवन करने से हमारे स्वास्थ्य पर सीधा नुकसान पड़ता है और उनमे में एक है तम्बाकू, तम्बाकू एक ऐसा जहरीला प्रदार्थ है, जिसके सेवन से हमार शरीर खोखला बनाता है यानि तम्बाकू एक ऐसा जहर है जो इन्सान को धीरे धीरे खोखला बनाता है और मौत की तरफ ले जाता है पहली बार लोग इसकी शुरुआत शौक पर करते तो है लेकिन इसका प्रभाव इतना हावी होता है की यही शौक धीरे धीरे लत में बदल जाती है.

आनलाईन मे राष्ट्रीय स्वयं सेवको मे बीना मिस्त्री, क्रिती साहू, दुखनाशन, अंगद बग्गा, वीर देवागंन, आयुष कुमरे आदि ने अपने-अपने विचारों को व्यक्त किया। इस कार्यक्रम मे समस्त अधिकारी और 68 स्वयं सेवाकों ने भाग लिया। और इसके बाद आनलाईन के माध्यम से चलाई जा रही क्लासेस एवं शिक्षण गतिविधियों पर तीनों वर्षों के छात्र -छात्राओं से विस्तृत चर्चा हुई।
छात्रों आने वाली समस्यों का निराकरण भी किया गया। इस समय समस्त शिक्षकगण भी आनलाईन उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन राकेश कौशले तथा धन्यवाद ज्ञापन करते हुए शिक्षिका संगिता लाकरा ने कहा की आपके आस-पास कोई धूम्रपान और अन्य तंबाकू उत्पादों का उपयोग करता है तो उसे कम करने के लिए या छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करें ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button