छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

नवीन सोसायटी गठन के बाद संचालक मंडलो के अधिकार को छिन रहे है सरकार : चंद्रभूषण यदू

Dileep shukla salhewara

साल्हेवारा ! DNnews – छत्तीसगढ़ सरकार सहकारिता विभाग द्वारा साल्हेवारा सोसाइटी से अलग कर रामपुर सोसाइटी का नवगठन किया गया है. साल्हेवारा सोसाइटी में 11 सदस्य अध्यक्ष को मिलाकर होते थे।जिसमें अलग होने पर साल्हेवारा सोसाइटी में अध्यक्ष को मिलाकर 6 सदस्य है जो साल्हेवारा सोसाइटी का संचालन कर रहे है. जबकि रामपुर सोसाइटी में 5 सदस्य होने के कारण संचालक मंडल को भंग कर दिया गया है. जिसे प्रभारी प्रबंधक एवं जिला सहकारी बैंक के मैनेजर संचालित कर रहे है.

चुने हुए संचालक मंडल सदस्य की संख्या पांच को वंचित कर मात्र समिति प्रबंधक प्रभारी जिला सहकारी बैंक के मैनेजर सहित दो व्यक्तियों द्वारा संचालित करना पांच सदस्यों से बढकर है जो चुनाव जीतकर आये है. ये प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों के साथ सरासर अन्याय है 6 व्यक्ति मे से एक कम होने पर 5 लोग समिति का संचालन नही कर पा रहे है वही दो व्यक्ति के ऊपर सरकार/सोसायटी संचालन का जिम्मेदारी सौपा गया है.

इधर साल्हेवारा समिति नवगठन के पहले संयुक्त सेंविग खाते मे जो राशि थी जिसका बटवारा रामपुर सोसाइटी को कितना मिला ये किसी सदस्य को जानकारी नही है. बिना प्रस्ताव के सदस्यों को जानकारी दिये बगैर सेविंग खातो की राशि का बंदरबाट किया जा रहा है. निर्वाचित संचालक मंडल सदस्यों को किसी प्रकार जानकारी नहीं देते ना कोई मिंटिग बुलाते है नवगठन पश्चात रामपुर सोसाइटी का कोई माई बाप नही है प्रभारी प्रबंधक एवं जिला सहकारी बैंक मैनेजर डीएल मंडावी मनमानी तरीके से सोसाइटी का संचालन कर रहे है.

रामपुर सोसाइटी के संचालक मंडल सदस्यों मे चन्द्रभूषण यदु ,पारस ठाकरे ,विष्नु ठाकरे ,भरोसा राम ,महेंन्द्र यादव है.जो सभी निर्वाचित संचालक मंडल सदस्य चुनाव जीतकर आये थे.जिन्हे वंचित कर नवगठित सोसाइटी का संचालन नहीं करने देना इनके अधिकार का हनन कर सोसाइटी संचालित होना संदेहास्पद है. करोड़ों रुपये का लेन देन किसानों एवं पीडीएस धान खरीदी का संचालन करते हैं जिसे दो ब्यक्ति के भरोसे संचालित करवाना जांच के दायरे में आता है. जांच होती है तो ढेरो अनियमितताएं पाई जाएगी.

साल्हेवारा सोसाइटी ने रामपुर सोसाइटी को कितने रुपये का बंटवारा दिया है सेंविग खाते की जमा राशि का किन किन मदो में खर्च किया गया है उसकी जानकारी किसी भी सदस्यों को नही है गम्भीर जांच का विषय है यदि जांच की जाये तो दुध का दुध पानी का पानी हो जायेगा.जो पांच सदस्यों को पद से हटाया गया है वो सभी जांच की मांग करते है.उपरोक्त जानकारी चन्द्रभूषण यदु संचालक मंडल सदस्य रामपुर ने दी व अविलम्ब जांच की मांग की है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button