छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

पाटेकोहरा चेकपोस्ट मे छः माह का पोस्टिंग अवैध उगाही का कारण !

Akil meman chhuriya.

 ▶️शाम होते ही सड़क जाम आम आदमी है परेशान

छुरिया ! DNnews – जिस बैरियर से सरकार की लगातार बदनामी होने के कारण भारतीय जनता पार्टी के रमन सरकार ने बैरियर को बंद कराया था जिसके भ्रष्टाचार की आवाज ठन ठन कर हर जगह सुनाई देती थी. यहां पर आए दिन उक्त बैरियर में लड़ाई झगड़े होते थे नेताओं व अधिकारी इसे उगाही का केंद्र बना दिया है. आज वहीं पाटेकोहरा बैरियर छत्तीसगढ़  सरकार को बदनाम करके रख दिया है क्योंकि वहां से गुजरने वाला छत्तीसगढ़ का हर ट्रांसपोर्ट से जुड़ा व्यवसाई हो या ड्राइवर कंडक्टर अंतर्मन से कोसते हुए ही निकलता है. ऐसे में 24 घंटा सक्रिय रहने वाला और महज छह माह ड्यूटी करने के लिए अपना दमखम दिखा कर पोस्टिंग में अव्वल आने वाले लोग की लाइन लगी हुई है. आखिर क्या कारण है जिसमें पोस्टिंग के लिए लंबे-लंबे जुगाड़ काम कर जाते हैं महज 6 माह के लिए देखा जाता है कि यहां पर एक नंबर और दो नंबर की कमाई दोनों होती है पर दो नंबर की कमाई किसको किसको फायदा है यह शोध करने वाला विषय है सूत्र  यह बताते हैं की यहां से उपजने वाला  धन कितने ही समय बड़ा है और अवैध वसूली करने वाले वही चेहरे सरकारी ड्यूटी के माथे क्यों बैठे रहते हैं छत्तीसगढ़ मे शासन किसी भी रहा परिवाहन विभाग द्वारा चेकपोस्ट बेरियरो मे प्रभारी व विभागीय कर्मचारियों का छः माह का पोस्टिंग ही अवैध उगाही का वजह है. बताया जाता है वर्षों से इस विभाग मे एक अजीब परम्परा बनाया गया है खबर है यहां जिसका भी पोस्टिंग होता है वह काफी एप्रोच जोड़ तोड़ से ही होता है उन्हें सिर्फ छः माह का समय दिया जाता है इतने कम समय मे उन्हे पहले जो यहाँ पोस्टिंग कराने दलालों को चड़ावा मे खर्च किया जाता है उस राशि को वसूली करना पहला मकसद होता है फिर अपने एक पीढ़ी के लिए इतने कम समय मे आर्थिक व्यवस्था बनाना है छः माह चेकपोस्ट मे अवैध उगाही का खास वजह यही है समझने वाली बात प्रदेश के समस्त सरकारी विभागो मे किसी भी अधिकारी कर्मचारी का पोस्टिंग का समय लिमिट नही होता तो ऐसा क्या वजह है जो परिवहन चेकपोस्ट मे छ:- छ: महीने का रोटेशन सिस्टम बनाया गया है. यहां एक ऐसा व्यवस्था है जो पूरा प्रदेश व देश इसका वजह समझता है इस व्यवस्था से सभी चेकपोस्ट मे खुलेआम भ्रष्टाचार को अन्जाम दिया जाता है. 

▶️भ्रष्टाचार के इस ठिकाने से सारे अधिकारी जनप्रतिनिधी वाकीफ

प्रदेश के सारे राजनीतिक दलो के जनप्रतिनिधी कुछ मीडिया के लोगों को क्या यहाँ का खेल नही मालूम है प्रदेश मे सरकार किसी भी पार्टी का हो यह बहोत पुराना सिस्टम है जो हर सरकार मे यही व्यवस्था है इसके लिए नेता या उच्च अधिकारी ही जवाबदार नही बल्कि जनता जिन्हे चुनकर भेजते है विकास के मुद्दे के बजाए थोड़े से पैसे के लालच मे अयोग्य व्यक्ति को छणिक समाजिक धार्मिक आर्थिक फायदा भुलावे जैसे छोटे उद्देश्य से हम चुनकर भेजते ये अव्यवस्था उसका ही परिणाम है जिसे स्वयं जनता को ही तो भुगतना है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button