अपराधछत्तीसगढ़टेक & ऑटो

पुलिस ने हत्या के आरोपी को किया गिरफ्तार,अकरजन के दया को नहीं आई दया. और अपनी प्रेमिका को गला घोट कर दी हत्या !

DNnews ब्यूरो !

▶️पत्नी बनाकर रखने के जिद मे थी रेशमा

छुईखदान ! DNnews पुलिस अधिक्षक डी श्रवण, अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक प्रज्ञा मेश्राम, एसडीओपी जीसीपति के मार्गदर्शन मे थाना प्रभारी रामेश्वर देशमुख के प्रयास से आखिरकार मुहडबरी व विक्रमपुर के बीच हुए हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. बतादें कि 19 जून को मुंहडबरी और विक्रमपुर के बीच नाले पर मिले शव का शिनाख्त होने के बाद आरोपी को भी पकड़ा गया है. बताए जाते हैं कि आरोपी दयाराम साहू जो कि अकरजन का निवासी है. मृतिका रेशमा जोशी लालपुर खैरागढ़ के साथ लंबे समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था. दोनों का प्रेम इतना था कि दोनों एक दूसरे के बिना नहीं रह पाते थे. लेकिन रेशमा जोशी दयाराम को पत्नी बना कर घर ले जाने की जिद में थी.

इधर दयाराम शादीशुदा व बाल बच्चे वाले होने के कारण रेशमा को अपना घर लाना उचित नहीं समझ रहे थे. इसी बीच दोनों की तनातनी हो गई. जिस दिन रेशमा की मौत हुई उस दिन दोनों ने शारीरिक संबंध बनाया और वहीं पर फिर से रेशमा ने पत्नी बनाकर रखने की जिद कर दी. इतने में दयाराम आक्रोशित होकर रेशमा की गला घोटकर हत्या कर दी. जानकारी के मुताबिक दयाराम पहले से ही रेशमा को मौत के घाट उतारने के फिराक में थे. इसीलिए दयाराम पहले से ही अपने घर से जूट की बोरी लेकर आए थे. रेशमा की गला दबाने के बाद वह बेहोश हो गई और बेहोशी हालत में दयाराम ने जूट की बोरी में रेशमा को डालकर नाले में फेंक दिया. जहां उसकी मौत हो गई. इधर घर वालों ने रेशमा की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी और पतासाजी भी चल रहा था. लेकिन जब 19 जून को राहगीरों ने बदबू के वजह से परेशान होकर पास में जाकर देखा कि बोरे में उस चीज पड़ा हुआ है जिससे बदबू बहुत आ रही है ग्रामीणों ने पुलिस को तत्काल सूचना दी. और छुईखदान पुलिस की मदद से मृतिका की पहचान की गई फिरहाल आरोपी दयाराम साहू को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

उपरोक्त कार्यवाही मे उप निरीक्षक विमल लावनिया, नरेन्द्र गहिने, ज्ञानसिंह कोरेटी,नंदकिशोर वैष्णव, रूपेंद्र दुबे, सुरेश कुमआर वर्मा, विमला उसारे, प्रवीण मेश्राम, प्रदीप यादव, छत्रपाल पैकरा, किशोर मार्बल, उदयशंकर बरेठ, जितेंद्र वर्मा, डामेन्द्र सिंह,सुशील साय पैकरा, शंकर मरकाम, विकास राजपूत, एवं भुषण चंद्रवंशी का विशेष योगदान रहा।

DNnews प्रकाशित खबर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button