छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

बिचारपुर से छुईखदान तक बन रहे सड़क मे जमकर भ्रटाचार,बनने से पहले उखड़ना चालू , ग्रामीणो ने उचित जांच की मांग की !

छुईखदान ! DNnews- करोड़ों की लागत से बनने वाले बिचारपुर से छुईखदान मार्ग बनने से पहले ही दम तोड़ रहा है. बतादें कि रत्ना खनिज द्वारा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बन रहे सड़क पर विभागीय अधिकारियों के मिलीभगत के चलते गुणवत्ताविहीन निर्माण किया गया है. जिले के अंतिम छोर मे बसे होने के के कारण यहां अधिकारी कर्मचारी सुपरविजन मे भी नही आते. यही कारण है कि ठेकेदार लापरवाही पुर्वक निर्माण कार्य को अंजाम दे रहा है. इधर सड़क बनने से पहले ही उखड़ना भी शुरू हो गया है. जो एक बहुत बड़ी विडंबना है.

▶️ मुरम के जगह डाला गया मिट्टी

ग्रामीणो के मुताबिक ठेकेदार के द्वारा खैरी मे मुरम के जगह मिट्टी नुमा मुरम को डाल दिया गया है जो कभी सड़क खराब होने की आशंका बनी है. हालांकि ठेकेदार मुरम का पुरा बिल लगा रहे हैं लेकिन समझ ये नही आ यहा है कि आखिर मुरम की उपलब्धता होने के बाद भी सड़क मे मिट्टी डालना समझ से परे है.

▶️ मुरम की अवैध सप्लाई

बतादें कि रत्ना खनिज के द्वारा करोड़ों की सड़क को चुरी के मुरम से बनाया जा रहा है. यहां खनिज विभाग का कोई परमिशन नही और ना पंचायत का कोई प्रस्ताव है. सेंटिंग करके ठेकेदार के द्वारा बड़ी मात्रा मुरम की खोदाई कर दी है. जहां मुरम से खोदे गए गढ्ढे मे खतरा बना हुआ है. कभी भी जानमाल की हानि हो सकती है.

▶️ पपड़ी को सड़क किनारे ही छोड़ दिया गया.

सड़क बनने से पहले सड़क को डिस्मेंटल करना होता है. और डिस्मेंटल करके पपड़ी को बाहर करना पड़ता है. यहां तो ठेकेदार ने लापरवाही की सीमा ही पार कर दी है. सड़क को डिस्मेंटल करके सड़क के किनारे ही छोड़ दिया गया है. जिससे किसानों को भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. यानि ठेकेदार सरकार से पुरा पैसा वसूल रहा है और इधर पैसा को बचाकर पुरा डकार रहा है. ग्रामीणो मे आक्रोश है कि समय रहते पपड़ी को नही हटाया गया तो ठेकेदार के खिलाफ विभाग सहित कलेक्टर से शिकायत करेंगे.

▶️ शोल्डर को ठीक से रोलर नही चलाया गया

सड़क मे सबसे बड़ा महत्व शोल्डर का रहता है. यहां तो ठेकेदार शोल्डर पर ठीक से बेलन नही चलाया गया है. जो इस सीजन के पहली ही बारिश मे धुल सकता है. आखिर इतने सब सोने के बाद भी विभाग मौन है. इससे यह पता चलता है कि विभाग ठेकेदार से मिले हुए है या नही तो कार्यवाही करने से डरते है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button