छत्तीसगढ़टेक & ऑटो

बिजली विभाग की लापरवाही का सजा भुगत रहे है गरीब परिवार !

गुलशन तिवारी उदयपुर !

उदयपुर ! DNnews- बिजली विभाग की लापरवाही का सजा आमाघाट कादा निवासी कामता विश्वकर्मा पिछले 1 साल से भोग रहा है ग्रामीण के पास रहने के लिए लगभग 10 डिसमिल जमीन है जिसके ऊपर से 11 केवी का विद्युत तार से विद्युत प्रवाह हो रहा है जगह की कमी होने की वजह से अब उनको घर बनाने के लिए विद्युत प्रवाह हो रही केबल के नीचे अपना मकान का नीव रखा है मकान छत स्तर पर पहुंच चुका है कॉलम भराई करते समय विद्युत की चपेट में आने से 32 वर्षीय गौतम पटेल नामक युवक की मौके पर ही मौत हो गई जिसका आज तक किसी भी प्रकार का कोई मुआवजा नहीं मिल पाया है. हितग्राही के द्वारा विद्युत केबल को ऊपर करने के लिए लगभग दर्जनों बार कोशिश किया जा चुका है आवेदन भी दिया जा चुका है परंतु आज तक किसी प्रकार की कोई राहत नहीं मिल पाई है.

कामता विश्वकर्मा का परिवार मजदूरी करके अपना परिवार चलाते हैं कुछ पैसे बचा कर घर बना बना रहे थे परंतु विद्युत केबल आने की वजह से पिछले 1 साल से उनका घर नहीं बन पाया है लगातार विद्युत केबल को ऊपर करने की गुहार लगा रहे हैं पूर्व में पदस्थ कनिष्ठ अभियंता कुबेर सिंह मरकाम के द्वारा स्थल निरीक्षण भी किया जा चुका है व ठेकेदार को आदेश भी दिया जा चुका था कि 8 मीटर बिजली खंभे को हटाकर 11 मीटर का बिजली खंबा लगाया जाए परंतु आज तक 11 मीटर का बिजली खंभा नहीं लग पाया है या सिर्फ झूठा आश्वासन ही साबित हुआ है पूर्व कनिष्ठ अभियंता के द्वारा 1 सप्ताह में व्यवस्था सुधारने की बात कहते हुए लगभग 10 बार बोल चुके हैं परंतु आज पर्यंत तक व्यवस्था नहीं सुधरी है या कहे तो पूर्व पदस्थ कनिष्ठ अभियंता की लापरवाही ही कहा जा सकता है गरीब परिवार के द्वारा छड़ रेट गिट्टी लेकर रख रखे हैं परंतु विद्युत केबल ऊपर नहीं होने की वजह से आज तक घर नहीं बन पाया है घर बनाने का सपना अधूरा हो चुका है। बरसात के मौसम में अब रहने के लिए घर की समस्या आन पड़ी है वहीं इस विद्युत केबल से मन्थिर पटेल उदल पटेल के घर के ऊपर से भी यह विद्युत केबल गया इनको भी भविष्य में घर बनाने में समस्या होगी विद्युत केबल से इनके घर भी प्रभावित हो रहे हैं।

“ग्राम पंचायत व हितग्राही के द्वारा आवेदन प्रस्तुत करने पर एस्टीमेट बनाकर डिमांड भुगतान होने के पश्चात विद्युत पोल बदल दिया जाएगा।”
एम विश्वकर्मा कनिष्ठ अभियंता छुईखदान

Related Articles

Advertisement
Back to top button