छत्तीसगढ़टेक & ऑटोपॉलिटिक्स

भूपेश सरकार ने भूमिहीन खेतिहर मजदूरों से वादाखिलाफी कर पकड़ाया झुनझुना : जिला पंचायत अध्यक्ष गीता घासी साहू

DNnews ब्यूरो !

राजनांदगांव ! DNnews-राजनांदगांव जिला पंचायत अध्यक्ष गीता घासी साहू ने एक विज्ञप्ति जारी कर कांग्रेस सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है. चुनाव के समय कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में भूमिहीन खेतिहर मजदूर परिवार को घर एवं बाड़ी देने का वादा किया था आज जब वादा पूरा करने का समय आया तो अपने वादे से मुकरते हुए उनको केवल साल में 6000 रुपए देने की घोषणा कर उनके विश्वास पर उनके उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। उन्होंने ने आगे कहा कि कांग्रेस सरकार जब से बनी है अपने घोषणाओं को पूरा नहीं कर पाई है किसानों की पूरा कर्ज माफी का वादा कर आधा अधूरा ही कर्जा माफी किया।

▶️ गौठान खाली और गौमाता सड़क पर

लाखों रुपए का खर्च कर गांव में गौठान बनाया आज खाली पड़े हैं. गौमाता सड़कों पर इंतजार कर रही है कब उन्हें गौठान में रखा जावेगा. धान खरीदी में पहले अपने ब्यारा बाड़ी के रकबे में भी धान बेच लेते थे परंतु इस सरकार ने तो खेत की मेड को भी काट कर धान खरीद रही है l बेरोजगार इंतजार कर रहे हैं कि कब उन्हें बेरोजगारी भत्ता देंगे, 60 साल के ऊपर के बुजुर्ग कह रहे हैं कि कब उन्हें 1000 एवं 1500 हजार रुपये की पेंशन राशि कब मिलेगी। शराब बंदी का वादा कर घर-घर शराब पहुंचा दिया. और भी कई इनके घोषणा पत्र में किया वादा अधूरा ही है ।उन्होंने बताया कि जब देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने पांच एकड़ तक के हर किसानों को 6000/ सालाना देने की बात की थी तब यही कांग्रेस के नेता विरोध स्वरूप 6000 रुपए को नाकामी बताते हुए ऊंट के मुंह में जीरा साबित किया था और आज उन्हें के रास्ते पर चलकर इस सरकार ने केवल भूमिहीन खेतिहर मजदूरों को 6000 रुपए देकर क्या साबित करने जा रही है l आम चुनाव में कांग्रेस ने केंद्रीय घोषणा पत्र में 72000 रुपए सालाना देने की बात की थी और जब योजना भी राजीव गांधी के नाम पर है तो प्रदेश सरकार को चाहिए कि 72000 रुपए सालाना केवल भूमिहीन खेतिहर मजदूरों को ही नहीं बल्कि सभी पाँच एकड़ तक के किसानों को देना सुनिश्चित करना चाहिए जिससे छत्तीसगढ़ की जनता को लगे कि कम से कम एक काम तो किया जिससे उन्हें संतुष्टि मिले।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button