छत्तीसगढ़टेक & ऑटोदेश-विदेश

रगरा सोसायटी का धान बारिश से खराब, मेंटनेंस मे पैसा आबाद, सोसायटी कर्मचारियों के लापरवाही के चलते सरकार को हो सकती है करोड़ो का नुकसान !

Dinesh sahu bazar atariya .

बाजार अतरिया ! DNnews- समीपस्थ सेवा सहकारी समिति रगरा मे शासन द्वारा समर्थन मुल्य मे दिसंबर जनवरी मे किसानों से खरीदे गए धान बारिश मे पुरी तरह से बर्बाद हो गया है. बतादें कि पिछले माह भर से रूक-रूककर हो रही बारिश ने शासन का सोना बर्बाद कर दिया है. यहां सोसायटी के लापरवाही के चलते धान खराब हो गया है। गुरुवार को हुई तेज बारिश से तो धान और भी खराब हो गया।

▶️ खुला पड़ा है धान.

बतादें कि खरीदी बंद हुए लगभग चार माह होने को है. जहां इस सोसायटी से किसानों का करोड़ों की धान खरीदी की गई है. लेकिन जब से खरीदी हुई है तब से यहां के कर्मचारियों के द्वारा लापरवाही ही देखने को मिल रहा है. सोसायटी मेंटेनेंस के नाम पर लाखो का आहरण किया लेकिन मेंटेनेंस नाममात्र का दिख रहा है. चौकीदार से लेकर , विद्युत व्यवस्था व धान को ढ़कने के लिए तिरपाल खरीदी के लिए लाखो रूपये आहरण हुआ है. लेकिन यहां न तो चौकीदार काम आ रहा है और ना ही तिरपाल काम आ रहा है. धान खुले मे पड़ा है. और बारिश से धान खराब हो रही है. यहां समझना यह है कि आखिर मेंटेनेंस के नाम पर लाखो का आहरण हुआ है उसके बाद भी ठीक से मेंटेनेंस दिखाई नही पड़ रहा है. ऐसे मे यहां पदस्थ समिति प्रबंधक के उपर कड़ी कार्यवाही होना चाहिए.

▶️ नही हुआ है अनुबंध न परिवहन

सोसायटियों मे धान खरीदी के बाद परिवहन के लिए सरकार बाकायदा विपणन संघ अनुबंध कराती है. इसके अलावा बीमा कंपनी से बीमा भी होना रहता है. लेकिन इस बार सरकार दोनो ही नियम को हटा दिया है यानि परिवहन के लिए अनुबंध नही हुआ है और धान का बीमा नही हुआ है।जब से धान की खरीदी हुई है तब से यहां ठीक ढंग से परिवहन नही हुआ है. यही कारण है कि धान खुले आसमान मे बारिशों मे खराब हो रही है. अनुबंध नियम के अनुसार धान खरीदी के बाद से 72 घंटे मे धान का परिवहन किया जाना रहता है. पहली बार ऐसा हुआ है जहां धान खरीदी के तीन माह बाद भी धान परिवहन नही हो सका. सरकार आखिर उचित व्यवस्था क्यों नही कर रही है सवालिया निशान खड़ा हो रहा है। सोसायटी मे चालीस हजार क्विंटल से ज्यादा धान खरीदी हुई थी. जिसमे अभी तक लगभग सोलह हजार क्विंटल से ज्यादा धान परिवहन नही हुआ. जो धान खुले आसमान मे पानी के वजह से खराब हो रहा है.

“परिवहन नही होने के कारण सोसायटी मे धान जाम हो गया है. बारिश मे धान भिग रहा है. हमने धान को ढकने की कोशिश की है।”
चंद्रेश निषाद प्रभारी समिति प्रबंधक रगरा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button