कोरोनावायरसछत्तीसगढ़टेक & ऑटोदेश-विदेश

शराब सेवन के शक मे एसडीएम द्वारा बीएमओ छुरिया का डाक्टरी मुलायजा करने से स्वास्थ्य कर्मियों मे आक्रोश, जाँच मे शराब सेवन का नहीं मिला सबूत तो कोरोना टेस्ट बता कर पल्ला झाड़ा

छुरिया ! DNnews- कोरोना महामारी मे लगातार दो माह से डाक्टर व पूरा स्वास्थ्य कर्मी दिनरात अपनी जान की परवाह किए बिना मरीजों के सेवा मे लगे है. वहीं डोगरगाव एसडीएम पिस्दा अचानक अस्पताल पहुचते है निरक्षण की बात कर छुरिया सामुदयिक स्वास्थ्य केन्द्र के बीएमओ डाक्टर पासी व अन्य स्टाप का अचानक मुह सुंघकर. डाक्टरी मुलायजा कराया जाने की खबर है जानकारी के अनुसार शराब का टेस्ट मे कुछ नही मिलने का रिपोर्ट आता है. उसके बाद मौके का फायदा देख सम्बन्धित अधिकारी मामले को दूसरे ढगं से मिडिया के सामने पेश कर दिया. यह बताना जाता है कि कोरोना को लेकर अस्पताल का निरीक्षण करने आए है अस्पताल के व्यवस्था देखना है गैरज के तरफ एक दो शराब का खाली शीशी मिलना कोई बड़ी बात नही वहाँ शाम मे बाहरी लोगो का भी आना जाना रहता है मरीजों के परिवार के सदस्य भी शराब का सेवन कर खाली शीशी फेक दिया गया होगा. जिसे डाक्टरों द्वारा शराब पीकर फेकने जैसा आरोप लगाकर उन्हें सार्वजनिक ढंग से अपमानित किए जाने की खबर तेजी से फैल रही है। आम लोगों का आरोप है जब कोरोना मरीजो का दौर चरम सीमा पर था तब मरीजों की सख्या बेहिसाब था तब ये अधिकारी कहा थे तब इन्हें व्यवस्था की चिन्ता नही थी कुल मिलाकर नगर के लोगों का कहना है कि छुरिया सामुदयिक स्वास्थ केन्द्र के अन्दर आज तक किसी डाक्टर व स्टाप का शराब पीकर ड्यूटी का मामला सामने नही आया है. समुदयिक केन्द्र के डाक्टर स्टाप ने जिस ईमानदारी से कोरोना काल मे लोगों का सेवा किया उनका जितना भी तारीफ किया जाए कम है.

नगर के प्रबुद्धजनों के अनुसार एक जवाबदार अधिकारी का बगैर ठोस प्रमाण के डाक्टरों को इस तरह से अपमानित करने का जितना भी निन्दा की जाए कम है।

▶️डाक्टर व स्टाप ज्ञापन व काली पट्टी से विरोध जताने की तैयारी मे

छुरिया सामुदयिक स्वास्थ्य केन्द्र मे बगैर कोई ठोस सबूत के निरीक्षण के आड़ मे एक जवाबदार अधिकारी द्वारा गैर जिम्मेदाराना ढगं से डाक्टर व स्वास्थ्य कर्मियों को शराब की मुलायजा कराने के विरोध मे खबर है डाक्टर व स्वास्थ्य कर्मी ज्ञापन व काली पट्टी लगाकर इस घटना का विरोध दर्ज कर दोषी अधिकारी पर कार्यवाही की माँग करने का चर्चा है।

▶️ अपमानित करने के आरोप से बचने की साजिश

स्वास्थ्य विभाग के प्रतिष्ठित पेशे से जुड़े बीएमओ की जांच को लेकर मामला संदेह के घेरे में है बताया जाता है कि एसडीएम द्वारा जानबूझकर अपमानित करने के दृष्टिकोण से बीएमओ का मेडिकल चेकअप कराया. विश्वसनीय सूत्र बताते हैं की एसडीएम शराब के मामले को लेकर मेडिकल चेकअप करने आए थे पर शराब सेवन का मामला सामने नहीं आने से खबर है एसडीएम ने फौरी तौर पर कोरोना का टेस्ट भी लगे हाथ करा दिया. और इसे कोरोना टेस्ट का नाम दे दिया गया सवाल यह उठता है कि आखिर स्वास्थ्य विभाग के अमले की कोरोना टेस्टिंग खासकर बीएमओ मतलब ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर की कोरोना जांच करने के कौन से आदेश शासन ने जारी किए हैं. और अब तक जिले में कितने बीएमओ का कोरोना टेस्ट एसडीएम के द्वारा किया गया जबकि टेस्ट का सारा दारोमदार स्वास्थ्य विभाग के हवाले हैं और बीएमओ को खुद का टेस्ट कराने के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग के सभी लोगों के साथ क्षेत्र के लोगों का भी टेस्ट करने की जिम्मेदारी है ऐसे में एसडीएम और बीएमओ के आखिर क्या व्यक्तिगत वैमनस्यता है जिसके कारण एसडीएम ने बीएमओ को अपमानित करने की ठानी।

“मामले के जानकारी के लिए लगातार मोबाइल पर काल करने पर उनके द्वारा काल रिसीव नही किया गया मैसेज भी किया गया पर जवाब नही मिला।”
एसडीएम डोगरगांव पिस्दा

“अचानक शाम को डोगरगाव एसडीएम सामुदयिक स्वास्थ्य केन्द्र छुरिया पहुंच कर जिस ढगं से मुझे व मेरे स्टाप के ऊपर शराब के नशे का आरोप लगाकर डाक्टरी मुलायजा कराया गया उससे मै काफी दुखी हूं, हम इस मामले को स्थानीय विधायक व उच्च अधिकारियों तक पहुंचाकर ज्ञापन सौपने अपने बीच मशवरा कर रहे है।”
बीएमओ डाक्टर पासी सामुदयिक स्वास्थ्य केन्द्र छुरिया

“अगर कोई इस मामले का शिकायत किया है तो पहले सम्बधित लोगों के बारे मे सही जानकारी लिए बैगर डाक्टर स्वास्थ्य कर्मियों को जाँच कराने का हम निन्दा करते है।”
राजकुमारी सिंहा अध्यक्षनगर पंचायत छुरिया

“किसी के सूचना पर एक जवाबदार अधिकारी को डाक्टर व स्टाप से सच्चाई की जानकारी लेना चाहिए था ना की डाक्टर व स्वास्थ्य कर्मी अपनी जान जोखिम मे डाल कर कोरोना मरीजों का सेवा किया है उन्हें झूठे शिकायत पर मुलायजा कराकर अपमानित किया जा रहा इसकी जितनी निन्दा की जाए कम है।”
रोमी भाटिया नगर पंचायत पूर्व अध्यक्ष

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button