छत्तीसगढ़टेक & ऑटोशिक्षा

शिक्षा का मंदिर शाउमाशा के समान मे हेराफेरी, एक वर्ष पूर्व पी डब्ल्यू डी ने भी समान निकाला !


छुरिया ! DNnews- वर्षों पुराना राजनादगांव जिला का सबसे मजबूत व बड़ा हाईस्कूल बिल्डिंग छुरिया को बीते एक वर्ष से स्कूल भवन को जिस हालात मे पहुंचाया गया उसमे लगे किमती समानो को बेचने का खेल चल रहा है वह बड़े शर्म का बात है. पिछले वर्ष जुलाई माह मे खुज्जी विधानसभा के विधायक श्रीमती छन्नी चन्दू साहू ने इस स्कूल का निरक्षण कर वस्तु स्थिति का जायजा लिया था जिर्णोउद्धार के लिए भी उन्होंने प्रयास किया था. मगर शासन ने उक्त भवन को डिस्मेंटल कर नए भवन का प्रस्ताव रखा जो स्वीकृत भी हो गया है. वर्तमान मे नए भवन के निर्माण के लिए भूमि मे पुराने भवन को हटाने का प्रक्रिया चालू है आरोप है उक्त भवन का किमती समान रात के अधेरे मे पार किया जा रहा स्कूल प्रशासन व यहाँ के प्रतिनिधि बेखबर है.

▶️पी डब्ल्यू डी ने स्कूल के समान मे किया गोलमाल

छुरिया शाउमा शाला भवन का बीते वर्ष जुलाई मे कुछ हिस्सा गिर गया था उस वक्त स्थानीय विधायक को जानकारी मिलते ही उन्होंने मौके का निरक्षण किया था खबर है उस वक्त उसमे लगा हुआ सीट खपरा .,एग्गल ,खिड़की ,दरवाजा,सारे किमती समान को पी, डब्लू, डी के सब इन्जीनियर व कर्मचारी ऊठाकर ले गया जिसका कोई लेखाजोखा नही है समान कहा अगर बेचा गया है तो राशि कहा है जाँच का विषय है नियम है किसी भी सरकारी भवनों का रिपेयरिंग का कार्य, पी. डब्लू ,डी विभाग द्वारा कराया जाता उनके द्वारा भवन मे जो समान खरीद कर लगाया जाता है उसका पी डब्ल्यू डी विभाग के पास फन्ड होता है. उससे भुगतान कर दिया जाता है. नियम से वह समान जिस विभाग का सरकारी भवन कार्य होता है ये उस विभाग का सम्पत्ति हो जाता है खबर है छुरिया स्कूल बीते वर्ष जुलाई माह मे स्कूल का एक हिस्सा आंधी तुफान से छतिग्रस्त हो गया था इसमे लाखों रूपया का लकड़ी एग्गल एडबेडर सीट ऐसे बहोत से किमती समान आरोप है पी. डब्लू. डी.के अधिकारी मौके से उठाकर ले गए थे अगर समान कही रखा है तो कहा अगर बेचा गया है तो उसका राशि किस मद मे जमा है जांच का मामला है।

▶️शाला विकास समिति इस मामले से बेखबर

शाला विकास समिति का अध्यक्ष विधायक के अनुशन्सा पर शासन द्वारा नियुक्त करता है उनका दायित्व होता है विधायक के प्रतिनिधि के रूप मे शिक्षा विभाग के सम्पत्ति व अन्य व्यवस्थाओ पर नजर रखना व स्कूल मे बच्चों के तकलीफों से शासन को अवगत कराकर उनका हल निकालना।

“वर्तमान मे हमारे स्कूल मे चौकीदार नही है और उसके लिए को फन्ड भी नही है अगर समान चोरी हो रहा है तो उनकी जवाबदारी नही है कुछ समान बिक्री हुआ है वह खर्च हो गया है”.
एचके खिलारी प्राचार्य शाउमाशा छुरिया

24 जून को प्रकाशित खबर.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Back to top button