Recent News
खैरागढ़ के स्थानीय स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की शाखा में अव्यवस्थाएं : सभापति विप्लव साहू ने सहजता के साथ लोगो की मदद की,और कहा व्यवस्था दुरुस्त हों
महाशिवरात्रि में अतरिया में निकलेगा शिव जी का बारात : डीजे के धुन पर थिरकेंगे शिव भक्त
ख़ुशी का ठिकाना नहीं : जब गम हुए मोबाईल अचनाक कोतवाली पुलिस ने मोबाईल धारको को लौटाया......
संगी भेंट(Reunion) बचपन की यादों का खजाना : जवाहर नवोदय विद्यालय के भतपूर्व छात्र जब 20 साल बाद मिले, फिर क्या .....
खैरागढ़ में योग प्रदर्शनी का आयोजन : खैरागढ़ विश्वविद्यालय विकसित भारत अभियान के तहत लगाई गई प्रदर्शनी
15 साल पहले हुई दोस्ती, शादी का झांसा देकर 10 साल तक बनाया शारीरिक सम्बन्ध : पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार
वित्तमंत्री ओपी चौधरी के निर्देश पर टैक्स चोरी करने वालों पर लगातार जारी है कार्रवाई : दुर्ग में संचालित अवैध गुटखा फैक्ट्री में जीएसटी विभाग की दबिश
खैरागढ़ में स्वास्थ्य केन्द्र में पल्स पोलियों अभियान की शुरुआत : जिला पंचायत उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह ने बच्चो को पोलियो ड्रॉप पिलाया
राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान का आयोजन : नगर अध्यक्ष पर्तिका महोबिया ने पोलियो ड्रॉप पिलाकर किया कार्यक्रम का शुभारम्भ
युवा कांग्रेस का अभियान : उदयपुर में पंचायत चलो वार्ड चलो महाभियान का हुआ आगाज



Hindi / दैनिक न्यूज / वनाँचल में किसान संघ की किसान पंचायत की बैठक : विभिन्न मुद्दों पर गहन चर्चा

वनाँचल में किसान संघ की किसान पंचायत की बैठक : विभिन्न मुद्दों पर गहन चर्चा :

Views • 65 / 56

खैरागढ़ ! DNnews-अविभाजित जिला किसान संघ की किसान पंचायत की बैठक आयोजित हुई, जिसमें संघ के संयोजक सुदेश टीकम, जिला पंचायत सहकारिता सभापति विप्लव साहू, एड. एस आर वर्मा, रमाकांत बंजारे, हरिश्चंद्र साहू, कलेश्वर यादव और कार्यक्रम संयोजक साधुराम धुर्वे के साथ आसपास के दसियों गांव के दर्जनों किसान साथी मौजूद थे। जिसमें आने वाले विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दलों के ऊपर कैसे कृषि-नीति को लेकर दबाव बनाया जा सकता है, रणनीति पर चर्चा हुई, ताकि देश का पेट भरने वाले किसान को उसका वाजिब हक मिल सके।

 किसान संघ में यह बात रखी गई कि अभी 8-10 सालों से ही किसान का मुद्दा चुनाव और राजनीति के केंद्र में आया है, और इस दबाव को हमें बरकरार रखना है। प्रकृति के हर वार और दबाव को सिर्फ किसान और निम्न तबका ही झेलता है। जब गैर कृषि सामान और अन्य उत्पादन की कीमतों को उत्पादित कंपनियां तय करती है तो अपने उत्पादन की कीमत को किसान ही क्यों नही तय कर सकता है! आजाद भारत में कुछ-कुछ सरकारों ने ही राजनीति के केंद्र में किसानों को रखा, और किसानी पर बात की है। पिछले चुनाव में किसान और धान का मुद्दा अहम था और उसके कारण ही एक विशेष पार्टी सत्ता में आई थी तो आने वाले चुनाव में भी और उससे जुड़े हुए हित के मुद्दे चुनाव के केंद्र में रहे, इस हेतु रणनीतिक तैयारियां की जा रही है। धान की कीमत 4 हजार के पार होनी चाहिए, साथ ही खरीफ और रबी की फसलों को न्यूनतम समर्थन मूल्य शासन द्वारा निर्धारित और खरीदी अनिवार्य किया जाना चाहिए। वनोंपज की कीमत बढ़ाई जानी चाहिए जिसमें तेंदूपत्ता की कीमत 8 हजार होनी चाहिए। किसान संघ द्वारा साथ ही किसान-ऐलान यात्रा आरंभ करने की बात कही गई जिसमे एक गांव के किसान दूसरे गांव जाकर घर-घर मांग पत्र चस्पा करने की योजना बनाई गई। 
प्रदेश भर से अलग-अलग जिलों से किसान संघ द्वारा किसानों द्वारा सुझाव और समर्थन मांगा जा रहा है, इस हेतु खैरागढ़-छुईखदान-गंडई से जिले के साल्हेवारा से आगाज हुआ, जिसमें साल्हेवारा, देवपुरा, रेंगाखार, नचनिया, खादी, रामपुर, आदि गांव से दर्जनों की संख्या में पुरुष और महिलाएं शामिल रही और अपनी अपनी बात रखी।


Dinesh Sahu

Cheif-In-Editor

खबरें और भी हैं...

Copyright © 2022-23 DNNEWS Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.