Recent News
खैरागढ़ के स्थानीय स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की शाखा में अव्यवस्थाएं : सभापति विप्लव साहू ने सहजता के साथ लोगो की मदद की,और कहा व्यवस्था दुरुस्त हों
महाशिवरात्रि में अतरिया में निकलेगा शिव जी का बारात : डीजे के धुन पर थिरकेंगे शिव भक्त
ख़ुशी का ठिकाना नहीं : जब गम हुए मोबाईल अचनाक कोतवाली पुलिस ने मोबाईल धारको को लौटाया......
संगी भेंट(Reunion) बचपन की यादों का खजाना : जवाहर नवोदय विद्यालय के भतपूर्व छात्र जब 20 साल बाद मिले, फिर क्या .....
खैरागढ़ में योग प्रदर्शनी का आयोजन : खैरागढ़ विश्वविद्यालय विकसित भारत अभियान के तहत लगाई गई प्रदर्शनी
15 साल पहले हुई दोस्ती, शादी का झांसा देकर 10 साल तक बनाया शारीरिक सम्बन्ध : पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार
वित्तमंत्री ओपी चौधरी के निर्देश पर टैक्स चोरी करने वालों पर लगातार जारी है कार्रवाई : दुर्ग में संचालित अवैध गुटखा फैक्ट्री में जीएसटी विभाग की दबिश
खैरागढ़ में स्वास्थ्य केन्द्र में पल्स पोलियों अभियान की शुरुआत : जिला पंचायत उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह ने बच्चो को पोलियो ड्रॉप पिलाया
राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान का आयोजन : नगर अध्यक्ष पर्तिका महोबिया ने पोलियो ड्रॉप पिलाकर किया कार्यक्रम का शुभारम्भ
युवा कांग्रेस का अभियान : उदयपुर में पंचायत चलो वार्ड चलो महाभियान का हुआ आगाज



Hindi / देश-विदेश / खैरागढ़ विश्वविद्यालय के विद्यार्थी पहुंचे सिरपुर, पुरातात्विक महत्व की जानकारी मिली

खैरागढ़ विश्वविद्यालय के विद्यार्थी पहुंचे सिरपुर, पुरातात्विक महत्व की जानकारी मिली :

Views • 71 / 67

खैरागढ़!DNnews- विगत दिवस सोमवार को एम ए प्रथम वर्ष एवं एम ए चतुर्थ सेमेस्टर में अध्ययनरत विद्यार्थियों ने कुलपति मोक्षदा चंद्राकर, कुलसचिव प्रोफ़ेसर आईडी तिवारी के प्रोत्साहन एवं सहयोग से डॉक्टर मंगलानंद झा सहायक प्राध्यापक , प्राचीन भारतीय इतिहास संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के मार्गदर्शन में शैक्षणिक यात्रा के अंतर्गत आरंग एवं सिरपुर की यात्रा संपन्न किया। आरंग एक महत्वपूर्ण पुरातात्विक स्थल है जहां छत्तीसगढ़ प्रदेश का इकलौता प्राचीन जैन मंदिर सुरक्षित है जो भांड देवल के नाम से प्रसिद्ध है। लगभग १२ वीं श.ई.में निर्मित यह मंदिर भूमिज शैली की है। मंदिर की निर्माण शैली एवं शिल्पांकित प्रतिमा की अध्यन से विद्यार्थी अत्यंत उत्साहित हुए। सिरपुर अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पुरातात्विक स्थल है , जिसका संबंध महाभारत काल से माना
 जाता है। यहां शैव, वैष्णव, बौद्ध एवं जैन सम्प्रदाय से संबंधित पुरातात्विक अवशेषों की बहुलता है। यहां स्थित लक्ष्मण मंदिर अपनी निर्माण शैली के लिए पूरे भारतवर्ष में प्रसिद्ध है। लक्ष्मण मंदिर को महाशिवगुप्त बालार्जुन की माता रानी वासटा ने अपनी पति हर्षगुप्त के स्मृति में बनवाया था, जिसका विवरण सिरपुर से प्राप्त अभिलेख में प्राप्त होता है। राजमाता वासटा मगध नरेश सूर्यवर्मा की पुत्री थी। लगभग सातवीं श.ई.में निर्मित इस मंदिर का अलंकरण एवं प्रतिमाएं अवलोकनीय है। परिसर में स्थित संग्रहालय का भी अवलोकन एवं अध्ययन विद्यार्थियों द्वारा किया गया। सिरपुर में स्थित तीवरदेव महाविहार, सुरंगटीला, गंधेश्वर महादेव मंदिर में स्थित प्रतिमाओं का विद्यार्थियों ने भली भाति अवलोकन एवं अध्ययन किया। इस एकदिवसीय अध्ययन यात्रा में डॉ.मंगलानंद झा, डॉ. चैन सिंह नागवंशी ,कल्याणी चंद्राकर ,शीतल निषाद ,हुनेश्वरी जंघेल, विजय कुमार रजक ,वर्षा यादव, ज्योति गुप्ता, लक्ष्मी नारायण इत्यादि सम्मिलित थे ।


Dinesh Sahu

Cheif-In-Editor

खबरें और भी हैं...

Copyright © 2022-23 DNNEWS Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.